New Poetry Two Lines – कुछ शिकायतें बनी

कुछ शिकायतें बनी रहे रिश्तों में तो बहेतर है,
ज्यादा चाशनी में डूबे रिश्तें वफादार नहीं होते


Leave a Reply

Your email address will not be published.