New Poetry Two Lines – जता न सके अपनी

जता न सके अपनी खामोश मोहब्बत,
खुद ही बेवफ़ा हो गये वफ़ा करते करत़े


Leave a Reply

Your email address will not be published.