New Poetry Two Lines – जब खुद को चोट लगती है

जब खुद को चोट लगती है,
दूसरों के जख्म भी तभी दिखाई देते है


Leave a Reply

Your email address will not be published.