New Poetry Two Lines – जमाने के लिये तो

जमाने के लिये तो सिर्फ आज दिवाली है,
मेरे दिल में तो रोज तेरी यादों के पठाखे जलते है


Leave a Reply

Your email address will not be published.