New Poetry Two Lines – तुझे चाहना तो जैसे गुनाह हो गया

तुझे चाहना तो जैसे गुनाह हो गया
हर शख्स पूछता है तेरे हिस्से में कितनी वफा आई


Leave a Reply