New Poetry Two Lines – तेरे पास भी कम नहीं

तेरे पास भी कम नहीं मेरे पास भी बहोत है,
ये परेशानियाँ आजकल फुरसत में बहोत है


Leave a Reply

Your email address will not be published.