New Poetry Two Lines – तेरे हुस्न को परदे की

तेरे हुस्न को परदे की ज़रूरत ही क्या है ज़ालिम
कौन रहता है होश में तुझे देखने के बाद


Leave a Reply