New Poetry Two Lines – न कर अपने दर्द ए दिल

न कर अपने दर्द-ए-दिल की नुमाइश शायरी मैं बयान
लोग और टूट जाते हैं हर लफ्ज को अपनी दास्तान समझ कर


Leave a Reply