New Poetry Two Lines – है जुस्तुजू कि ख़ूब से

है जुस्तुजू कि ख़ूब से है ख़ूब-तर कहाँ
अब ठहरती है देखिए जा कर नज़र कहाँ


Leave a Reply