New Poetry Two Lines – होता है जिस जगह मेरी

होता है जिस जगह मेरी बरबादियों का जिक्र,
तेरा भी नाम लेती है वहाँ दुनिया कभी कभी


Leave a Reply

Your email address will not be published.