Shero Shayari 2 Lines – कद्र हमारी कौड़ी भर की नहीं

कद्र हमारी कौड़ी भर की नहीं,
फिर याद हमारी सुनहरी भला कैसे होगी ?


Leave a Reply